Radhe Forms

उन दिनों की बात status in hindi

उन दिनों की बात कलाश 10 th जब मैंने कोचिंग में पहले दिन गया तो मैं तोड़ा कमजोर था एक लड़की बहुत सुन्दर कलाश में बहुत तेज हम ठहरा बुद्धु एक दिन की बात 2 दिन बाद हमसे बोली कल्लाश में 5 दिन बाद 5 सितमबर यानि शिछक दिवश आने वाला था मैना कहा सर से क्यों न हम पार्टी कर ले कल्लाश में हमलोग टोटल 15 स्टूडेंट्स थे हमलोग पैसे इकठे किये और पार्टी की तयारी शुरू किये मै और नेहा दोनों ने पैसे इकठे किये और पार्टी किये बहुत मजा आई / धीरे धिरे नेहा से प्यार होता गया प्यार बढ़ता गया एक फोन पे बात हर रोज होता था एक दिन बात नहीं होता तो हम लोग में झगड़ा भी होता था कोचिंग टाइम फिक्स था एक घंटा पहले ताकि हम लोग अच्छे बात कर ले धीरे धीरे कल्लाश में मेरा [ दोस्त कितना कमीना होता है ] अभय बोला की यार तू कही पागल नहीं तो गया ये तू किससे बात कर रहा है तू जनता ये किसकी बेटी है मैंने बोलै नहीं आज तक मैने नहीं पूछा तो तू जान ले ये बिद्याक की बेटी है मैंने बोल तो क्या हुवा बिद्याक की बेटी है क्या माना लेंगे तो दोस्त बोलै यार मरेगा तू मैंने बोला चल ठीक प्यार में सब अंधे होते एक दिन उसके पापा को मालूम पड़ा तेरी बेटी जो बहुत आगे जा रही उसके पापा उसको हॉस्टल में रख दिया मैं फोन लगता तो फोन बंद बता रहा मै पागल बारबार फोन करता आखिर क्यों बंद कर दी मोबाइल मुझसे कहा होता आखिर क्या हो उसे साथ मोबाइल बंद मै मै कुछ और सोच रहा था की उश्के सहेली फोन की नेहा तुझसे कभी बात नहीं होगा ! मैंने पूछा क्यों यार आखिर हमने ऐसा क्या कर दिया की हमसे बात नहीं करेगी आखिर क्या हो गया उसे मुझे बात करावो प्ल्ज़ एक बार उश्ने बोला तुजेसे क्या किससे से बात नहीं कर पायेगी मैंने बोलै क्यों मै मर जावंगा यार क्या हुवा उसे उसके दोस्त ने बताया की उसके पापा को मालूम पड़ा तो ने नेहा को हॉस्टल छोड़ आया नेहा तेरे बिन कैसे रहेगी मै तो और घबरा गया की मेरी नेहा बहुत घबराती होगी वो सोचःती होगी की राज आएगा या नहीं आयेगा में उसी समय बाइक उठाया और चल पड़ा हॉस्टल व्हा गया तो रात 7 बजने वाला था दरवाजे पर चोकीदार खड़ा था उशने बोला क्या बात है मेने बोला नेहा से मिलना है वो बोला की नहीं मिलना है तो कल सुबह कल्लाश से पहले आवो मै मिलवा देंगे मै बोला Okk मै वही पे हॉस्टल के आगे पीछे घूमता रहा आखिर कहा है नेहा होते होते सुबह हुवा और मै गया तो मिला चोकीदार से बोला की हम बुला रहे है आप यही पे बात कर लीजिये आपको अंदर नहीं जाने देंगे मैंने बोला ठीक है बोला दीजिये ! वो गया और नेहा आई रोती घरबरातीं मै देखा तो में रो पड़ा वो बोली राज मुझे बहार निकालो मैंने बोलै तुम घबराव नहीं मै कुछ करता हु वो बोली मैं यहाँ नहो रहने वाले मैंने बोलै ठीक है मै जल्द यहाँ से तुझको ले जाने वाले सबसे पहले हमलोग सदी करेंगे वहा से हमलोग अपने घर चलना है वहा मम्मी इंताजर कर है होगी नेहा बोली मुझे जल्द निकालो इस जेल से मैंने बोलै ठीक आज शाम को 5 बजे तुम अपना सामान पैक कर लेना हम लोग भाग चलेंगे  !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *